अभी न पर्दा गिराओ, ठहरो,--------

अभी न पर्दा गिराओ, ठहरो, कि दास्ताँ आगे और भी है
अभी न पर्दा गिराओ, ठहरो!
अभी तो टूटी है कच्ची मिट्टी, अभी तो बस जिस्म ही गिरे हैं
अभी तो किरदार ही बुझे हैं।
अभी सुलगते हैं रूह के ग़म, अभी धड़कते हैं दर्द दिल के
अभी तो एहसास जी रहा है
यह लौ बचा लो जो थक के किरदार की हथेली से गिर पड़ी है
यह लौ बचा लो यहीं से उठेगी जुस्तजू फिर बगूला बनकर
यहीं से उठेगा कोई किरदार फिर इसी रोशनी को लेकर
कहीं तो अंजाम-ओ-जुस्तजू के सिरे मिलेंगे
अभी न पर्दा गिराओ, ठहरो!















Loading...

fight for Eunuchs

fight for Eunuchs
third gender equality

hijra"s rally for Separate Gender Identification

9:51 AM / Posted by huda / comments (0)

hijra,s rally regarding census 2011

4:11 AM / Posted by huda / comments (0)

hijras-the fight for their rights.mp4

10:45 AM / Posted by huda / comments (0)

Itne Bazu Itne Sur , Gin Le dushman Dhyan Se - Main Azaad Hoon - www.Pr...

10:41 AM / Posted by huda / comments (1)

PUBLIC INTEREST LITIGATION

3:56 AM / Posted by huda / comments (0)


To, ref:ssfaesfi/peti/1/2010
The
Hon’ble Chief Justice
Supreme Court Of India Date: - 24/4/2010
New Delhi


Sub: - Petition for Separate Gender Identification For Eunuchs In Census 2011

Sir,

This petition is in the interest of eunuchs/ kinnars, who are impotent and cannot be considered as male or female nor they can lead a married life (Under article 14 & 21), In our country they are considered in, either male or female category, as per their own choice, where as they should have a separate category.

Eunuchs are socially and educationally deprived group of the society, since many years and are humiliated by the public also. Recently they got some relief in terms of decision taken by the election commission (on 13/11/2009) by giving separate category to them in the voters list. Similarly, we wish and request the good self to kindly instruct the Govt of India & Registrar General & Census Commissioner, under article 32, to make separate gender identification for eunuchs in census 2011, and help this downtrodden group of the society.

We also request your good self to kindly consider our request as Public Interest Litigation.

Thanking you,

Yours truly,

(Dr.S.E. Huda)
Secretary
SSFA-ESFI



Enclo: News Paper Clippings

इस गणतन्त्र के जन में इनका शुमार क्यों नहीं?

6:11 AM / Posted by huda / comments (1)


क्योंकि हम ऐसा चाहते हैं।
बहुत ईमानदारी के साथ हम महसूस करते हैं, इसकी पुख्ता वजूहात हैं -
वो देखने में हमारे जैसे इंसान ही लगते हैं।
हमारे जैसा महसूस करते हैं
हमारी तरह रोना-हँसना भी जानते हैं
हमारी ख़ुशी में शरीक होते हैं अपना पेट पालने के लिये
नाचते हैं और हमको हँसाते हैं
वह भी साँस लेते हैं, दो रोटी भी खाते हैं
दर्द उनको भी होता है
दिल उनका भी दुःखता है....शायद हम-आपसे बहुत ज्यादा
तड़प - और वह इतनी कि रोज़ जीते हैं और रोज़ मरते हैं।
पूरी ज़िन्दगी में लाखों बार मौत-ज़िन्दगी से दो-चार होते हैं
......या हम दूसरी दुनिया से आये हैं या फिर ये लोग
अरे। हम जैसे आधुनिक लोग
कैसे हो सकते दूसरी दुनिया के
हम तो सैकड़ों वर्ष पुरानी इंसानियत की
सभ्यता रूपी गठरी को अपने मज़बूत कंधों पर उठाये
वक्त की रहगुज़र पर सीना चौड़ा करके चल रहे हैं।
हाँ। शायद ये ही कहीं से टपके हैं
या तो जंगल से या फिर आसमान से आये हैं।
पूँछके देखूँगा उन माँ-ओं से
शायद वो ही सबसे बेहतर बता पाएँ
चूँकि वो जन्म देती हैं
ज़रा सोचो तो...........

इस गणतन्त्र के जन में इनका शुमार क्यों नहीं?

4:35 AM / Posted by huda / comments (0)





क्योंकि हम ऐसा चाहते हैं।
बहुत ईमानदारी के साथ हम महसूस करते हैं, इसकी पुख्ता वजूहात हैं -
वो देखने में हमारे जैसे इंसान ही लगते हैं।
हमारे जैसा महसूस करते हैं
हमारी तरह रोना-हँसना भी जानते हैं
हमारी ख़ुशी में शरीक होते हैं अपना पेट पालने के लिये
नाचते हैं और हमको हँसाते हैं
वह भी साँस लेते हैं, दो रोटी भी खाते हैं
दर्द उनको भी होता है
दिल उनका भी दुःखता है....शायद हम-आपसे बहुत ज्यादा
तड़प - और वह इतनी कि रोज़ जीते हैं और रोज़ मरते हैं।
पूरी ज़िन्दगी में लाखों बार मौत-ज़िन्दगी से दो-चार होते हैं
......या हम दूसरी दुनिया से आये हैं या फिर ये लोग
अरे! हम जैसे आधुनिक लोग
कैसे हो सकते दूसरी दुनिया के
हम तो सैकड़ों वर्ष पुरानी इंसानियत की
सभ्यता रूपी गठरी को अपने मज़बूत कंधों पर उठाये
वक्त की रहगुज़र पर सीना चौड़ा करके चल रहे हैं।
हाँ। शायद ये ही कहीं से टपके हैं
या तो जंगल से या फिर आसमान से आये हैं।
पूँछके देखूँगा उन माँ-ओं से
शायद वो ही सबसे बेहतर बता पाएँ
चूँकि वो जन्म देती हैं
ज़रा सोचो तो...........

MEMORANDUM

7:13 AM / Posted by huda / comments (0)


To,
Hon’ble President Of India, ref:ssfaesfi/2A/10
Rashtrapati Bhawan date;21/4/2010
New Delhi 110001

SUB:- Separate Gender Identification and specific UID – For Eunuchs
Madam

We are running an organization in the name ‘Syed Shah Farzand Ali Educational & Social Foundation of India’, comprising of large community of intellectuals, doctors, national & international social activists, academicians and sport person. The organization chooses such people who are motivational, conscientious, and intellectuals with deep sense of commitment. Our approach is long term and leveraged. The organization works on social and educational issues of the society irrespective of cast and religion. We are working for the last may years in Maharashtra, MadhyaPradesh, Gujrat, Uttar Pradesh and Delhi and near by areas mainly concentrating on the welfare of women, children and eunuchs in respect of their education socio-economic and health status.
This memorandum is to request your good self to make arrangements for separate gender identification for Eunuchs in census 2011. Presently, as per Performa floated by the government there is no separate column for eunuchs and they are included as either male or female. (One copy of the Performa is enclosed for your perusal)
Therefore, we request your good self to kindly look into the matter and make necessary arrangements to ensure that eunuchs are given separate column in the census Performa so that authentic figure for eunuchs in India, can be known and the govt. schemes can be floated, time to time for the benefit of eunuchs.
We are also enclosing all correspondence made regarding above, for your perusal
An early and positive response will highly be appreciated.

Thanking you,

Yours truly,


(Dr. S. E. Huda)
Secretary

फज्र की नमाज़ पर महबूब चचा की चाय

7:30 AM / Posted by huda / comments (2)


पुराने शहर की तंग गलियों के बीच बसा मोहल्ला रोहिली टोला। रूहेला नवाबों के नाम पर रखा गया नाम। जिसकी शान बढ़ाता हुआ बीचो-बीच बना पुराना हवेली नुमा मकान 'बब्बन साहब का फाटक' जो इस मोहल्ले की शान हुआ करता था। नवाबों की नवाबियत की तरह जिसकी भी दीवारें अब दरकने लगी हैं और रही-सही कसर पूरी कर दी कुछ भू-माफियाओं ने, जिनकी पैनी निगाहें इस हवेली नुमा मकान की सैकड़ों वर्ष पुरानी लकड़ी से लेकर फाटक के लोहे के गेट तक पर टिकी हैं। नये पुराने इस दौर के बीच की कड़ी हैं महबूब चचा। पुरानी ज़मीन जायदाद के साथ-साथ सरकारी सस्ते गल्ले की दुकान भी चलाते हैं। अपने दौर के चिकन-चंगेजी से लेकर आज के दौर के चाऊमीन तक के किस्से हैं उनके पास। चचा के पास बैठना आसान नहीं है। मोहल्ले के हर एक बुज़ुर्ग और बच्चों को तालीम का लम्बा पाठ पढ़ाते हैं और सर-सय्यद के क़िस्से तो ऐसे सुनाते हैं जैसे ए०एम०यू० इन्होंने खड़े होकर बनवाई हो। मोहल्ले के ज्यादातर लोगों के बच्चे ज़री का काम करते हैं और कुछ एक मकान धोबियों के भी हैं मोहल्ले में। चचा का कहना है कि सालो तुमसे अच्छे तो धोबी हैं, कम से कम साफ कपड़े तो पहनाते हैं प्रेस करते हुए, तुम लोग तो न क़ल्ब से साफ हो और न ही दिमाग़ से। पढ़ाई-लिखाई तो तुम लोगों से होने से रही। कम से कम साफ-सुधरी बातें ही कर लिया करो। अबे - डॉक्टर, मास्टर न बनाओ न सही, कम से कम स्कूल तो भेजो बच्चों को। साफ-दिल चचा की साफ-गोई को हर कोई जानता है। चचा कहते हैं - अबे अगर मर जाऊँ तो जनाज़े में साफ-सुधरे कपड़े पहनकर आना। और सुनो पहले धोबी मेरा जनाज़ा उठाएंगे। और हाँ. जनाज़े के पीछे साफ-साफ क़लमा पढ़ना। कहीं बातें मत करने लग जाना कि तीजे में कोरमा बनेगा या बिरयानी पर हाथ साफ होगा। धोबियों में भी बड़ी मक़बूलियत है चचा की। साठ साल तक शादी नहीं की चचा ने। मोहल्ले के कुछ हमउम्र लोगों ने फैसला किया कि चचा की शादी करा दी जाए। पहुँच गये सब इशां (रात की नमाज़) के बाद चचा के घर फरियाद लेकर। चचा नमाज़ियों को देखते ही बोले - आ गये शैतान फिर बरगलाने। अबे, लीचड़ो-ज़लीलो तुम्हीं लोगों की वजह से नहीं जाता हूँ मसजिद में नमाज़ पढ़ने। ये भी तो गवारा नहीं है तुम लोगों को। मेरे पीछे कहते हो चचा की कंट्रोल की दुकान हिन्दु मोहल्ले में है। चचा जागरण में जाते हैं तिलक लगवाते हैं। लाला बनारसी चचा के जिगरी दोस्त हैं। होली की गुजियेँ खाते हैं। और पता नहीं क्या-क्या शिर्क करते हैं। तौबा-तौबा, अबे सालो सब जानता हूँ। मेरे पीछे में घर की रखवाली के बहाने आते हो। शाहिद (चचा का नौकर) से चाबी लेकर ख़ूब मज़े ले-लेकर खूब गुजियें खाते हो। और कम्बख्तो पानी भी मेरे फ्रिज का पीते हो। अब जब चचा का फ्रिज है तो क्या ज़रूरत मोहल्ले में दूसर फ्रिज की। चचा बोले.......कम्बख्तो क्या काम है। बताओ जल्दी.....चंदे के लिये आये होगे। मसजिद की पानी की टंकी या लाइट ख़राब हो गयी होगी। या लाउडस्पीकर का मुँह बन्दरों ने फिर मोड़ दिया होगा हिन्दु मोहल्ले की तरफ। अबे इतने चंदे से तो मोहल्ले के दो-चार लौंडे - वकील/डॉक्टर बन जाते। बरसों से चन्दा कर रहे हैं मसजिद की लाइट भी ठीक नहीं करा पाए। बिल दोगे नहीं, लाइट कट गयी तो सरकार ज्यादती कर रही है मुसलमानों पर। मर्ज़ी न चली तो इस्लाम ख़तरे में। सालो तुम लोगों ने तो नास मार रखा है। मर जाऊँगा तो सारी जायदाद घऱ के पीछे सुनार हिन्दुओं को देकर जाऊँगा, जो कम से कम एक प्याली चाय तो पूँछ लेते हैं। मसजिद की चंदा कमेटी के हेड मिर्ज़ा जी ने डरते हुए बड़ी दबी ज़बान में कहा - वो, महबूब भाई ऐसा है कि हम सब चाहते हैं कि आपकी शादी हो जाए तो अच्छा रहेगा। और आख़िर कब तक ऐसे ज़िन्दगी कटेगी अकेले। एक न एक दिन अल्लाह को मुँह दिखाना ही है। चचा तपाक से बोले....क्यूँ बे.... क्या अल्लाह कुँवारों का मुँह नहीं देखता है। नहीं......नहीं.......हमारा मतलब यह नहीं है मिर्ज़ा जी ने कहा। हम तो चाहते हैं कि चच्ची आ जाएँ। चचा ने अपने ढीले कुरते की आसतीनें ऊपर चढ़ाईं जो कुरता तहमद के ऊपर लगभग घुटनों तक नीचे आ रहा था। और बोले.......अबे सालो....भाभी को चच्ची बोलते हो। मैं जानता हूँ....मेरे पीछे में कभी नीबू के बहाने.......कभी फ्रिज की ठन्डे पानी के बहाने.......कभी दूध के बहाने आकर आँखें सेंकोगे। अब तक मोहल्ले की बच्चों की गेंदे ही आती थीं मेरे आँगन में। लगता है अब तुम लोगों ने भी क्रिकेट की टीम बना ली है, जिसका निशाना मेरा घर होगा और हर शॉट मेरे आँगन में ही आएगा। सालो मुझसे तो फटती है...पर शादी करा दोगे तो सोचते हो....चच्ची...चच्ची कहकर ख़ूब घुस-घुसकर बैठेंगे चच्ची के पास। जब इण्डिया-पाकिस्तान का मैच होगा तो जाड़ों में लाइट बन्द करके टीवी चलाओगे और एक ही लिहाफ में पूरा मोहल्ला बैठ जाएगा। चाय चचा की पीओ और मज़े चच्ची से लो। अबे सब जानता हूँ तुम बुड्ढों की ख़ुराफात। ख़बू जानता हूँ क्या होता है नाइट मैच देखने के बहाने। पूरे साल इन्तिज़ार करते हो नाइट मैचों का। तुम्हें मतलब नहीं कौन जीते। बस रात के मैच हों और सब एक जगह मैच देखें एक लिहाफ में। और रमज़ानों में मैच पड़ जाएं तो सोने पे सुहागा। सहरी भी चचा की। सब जानता हूँ क्या-क्या करते हो मैच देखने के बहाने। चचा के बेबाक़ बयानों से मानो आफत-सी तारी हो गयी हो। सबके चेहरे उतर गये। आख़िर कौन मनाये चच्चा को शादी के लिये। कुछ पलों के लिये मानो सन्नाटा-सा छा गया। रात के साढ़े नौ हो चले थे। चचा ने चुप्पी तोड़ी। बोले....अमाँ मियाँ....जाओ अपने-अपने घरों। बड़े काज़ी बनते हो....देखो लौंडे आ गये होंगे अपने-अपने कामों से। हिसाब लगाओ...किसको कितनी दिहाड़ी मिली है आज। और जो छोटा लौंडा स्कूल जाता है न......उसको भी भेज देना कल से काम पर। कुछ और जुगाड़ हो जाएगी तुम्हारे हुक्के-पानी की। कम्बख्त चले हैं चचा की शादी कराने। अपना-सा मुँह लिये सब चचा के घऱ से निकले और चचा पीछे से बड़बड़ा रहे थे। कुछ सेकेन्ड के फासले पर एक लम्बी और कड़क आवाज़ ने सन्नाटा तोड़ा......अबे लईक......सुबह फज्र की नमाज़ में उठा दीजो। नमाज़ पढ़ने के लिये नहीं.....तुम लोगों की चाय का भी तो इंतिज़ाम करना होता है रोज़। चचा ने हौले से मुस्कुराकर कहा..........

reminder letter to president of india ---

2:59 AM / Posted by huda / comments (0)


SYED SHAH FARZAND ALI EDUCATIONAL & SOCIAL FOUNDATION OF india

Ho’nable President Of India Date 13/4.2010
Office Of President of India
Rashtrapati Bhawan ref: ssfaesfi/uid/3/10
New Delhi

SUB:- Separate Gender Identification and specific UID – For Eunuchs.

Madam,

This has reference to our earlier letter ref: ssfaesfi/2/10, and subsequent fax dated 7/4/2010, wherein we had requested you regarding the above matter.
On 13/4/2010 we had a telephonic conversation with your office personnel regarding the status of the said letter and we were informed that, till date they have not received such letter at their end. As a consequence, we are sending the letter with all the necessary documents again, for your perusal and with a request to kindly consider it on priority basis.
We would like to inform that today we have again sent the fax for said subject and it is confirmed by your office that it has been received.
Thanking you and expecting a favorable response from your good self.

Yours truly,

(Dr. S.E. Huda)
Secretary

डॉक्टर, जिसने लड़ी मानवता की लड़ाई----

6:01 AM / Posted by huda / comments (2)


उत्तर-प्रदेश के बरेली के एक डाक्टर ने मानवता की एक नयी मिसाल कायम की है। बहुत कम ही लोगों को पता होगा कि उत्तर प्रदेश में बरेली शहर के एक युवक द्वारा बेशुमार मुश्किलों का सामना करके करीब साल भर पहले शुरु की गई मुहिम के चलते ही चुनाव आयोग ने पिछले महीने देश के करीब एक करोड़ किन्नरों को मतदाता सूची में पुरुष एवं नारी से अलग श्रेणी में रखना मंजूर किया। किन्नरों को अलग पहचान दिलाने वाला यह युवक शहर के नामी गिरामी अस्पताल का मुख्य चिकित्साधीक्षक है। डा. सैयद एहतिशाम हुदा नामक इस फिजियोथेरेपिस्ट का ताल्लुक बरेली के एक प्रतिष्ठित घराने से है और वह अपनी विशेषज्ञता के सहारे कई प्रख्यात खिलाडियों समेत बेशुमार नामचीन हस्तियों को उनकी बीमारियों से निजात दिला चुका है। अलग-थलग पड़े किन्नरों के समाज में स्वीकार्यता दिलाने की उनकी मुहिम के बारे में पूछने पर डा. हुदा ने बताया कि करीब साल भर पहले एक किन्नर उनके पासस्पोंडिलाइटिस के इलाज के लिए आया मगर इस डर से कि कहीं डाक्टर साहब के बाकी मरीज भाग ना जाए। वह उनके कमरे में नहीं आया और बाहर इंतजार करता रहा। उन्होंने कहा, उसके पर्चे पर कई बार नजर पडने पर काफी देर बाद उसे अंदर बुलाकर पूंछा तो पर उसने कहा कि मरीजों के बीच आने के लिए उसे कई डाक्टर डांट चुके है लिहाजा वह अंत में दिखाने के लिए कमरे के बाहर बैठा था। डा. हुदा ने कहा कि एक इंसान होने के बावजूद समाज में किन्नरों के साथ हो रहे इस दोयम दर्जे के व्यवहार को देखकर वह आंदोलित हो उठे।
इस एक छोटी सी घटना ने उनके मन में किन्नरों के लिए कुछ करने का जज्बा पैदा कर दिया और उस दिन उनकी जिन्दगी को एक मकसद मिल गया। उन्होंने कहा किन्नरों के हक की लडाई छेडने पर शुरआती दौर में सबसे पहले घर पर ही मेरा विरोध शुरु हो गया। परिजनों ने तंज कसे और मेरी पत्नी ने रो-रोकर अपना बुरा हाल कर लिया। इतना ही नहीं किन्नरों की भी एक बाहरी आदमी की उनसे घुलने मिलने की कोशिश पर काफी तीखी प्रतिक्रिया रही और उन्होंने भी मेरी खूब फजीहत हुई। डा. हुदा ने बताया कि बडी मुश्किल से वह आखिरकार अपने मकसद के बारे में सबको आश्वस्त करके आगे बढ सके। उनकी पहल पर गत अप्रैल में यहां थर्ड जेन्डर इक्वेलिटी, विषय पर संपन्न राष्ट्रीय संगोष्ठी में शायद पहली बार शिक्षाविदों,डाक्टरों बुद्धिजीवियों एवं समाज सेवियों के साथ किन्नरों को एक मंच पर स्थान दिया गया और लोग उनकी व्यथा-कथा से रबर हुए।
बाद में लोकसभा चुनाव के दौरान किन्नरों को साथ लेकर उन्होंने बरेली शहर के परंपरा से अपेक्षाकृत कम मतदान वाले इलाकों में असरदार मतदाता जागरकता अभियान भी चलाया। इसके बाद उन्होंने गत जून माह में चुनाव आयोग से मतदाता सूची में किन्नरों के स्त्री और पुरष से अलग श्रेणी में रखे जाने का अनुरोध किया। अलग-थलग पडे इस वर्ग को समाज की मुख्यधारा से जोडने के लिए डा. हुदा द्वारा किये जा रहे प्रयासों से मुख्य चुनाव आयुक्त नवीन चावला बहुत प्रभावित हुए। किन्नरों को उनका हक दिलाने के लिए उन्होंने आयोग से लगातार संपर्क बनाये रखा और इस सिलसिले में श्री चावला से दिल्ली में मुलाकात भी की। उपेक्षित किन्नर वर्ग के समाज में सम्मानपूर्वक खडा करने के लिए डा. हुदा द्वारा अनवरत की जा रही कोशिशों के नतीजतन चुनाव आयोग ने गत 12 नवम्बर को किन्नरों/ट्रांसंसेक्सुअलों को यह इजाजत देने का फैसला लिया कि अगर मतदाता सूची में वे अपने नाम का उल्लेख पुरष या महिला के रूप में नहीं कराना चाहें तो अपना लिंग बताने के लिए खुद को अन्य के रप में दर्ज करा सकते हैं।
इसके पहले मतदाता सूची में किसी किन्नर का नाम उसकी इच्छा के अनुसार स्त्री अथवा पुरुष श्रेणी में रखा जाता था। ज्ञातब्य है कि इस सफलता से उत्साहित डा. हुदा का कहना है कि किन्नर भी इंसान हैं और जरा से शारीरिक दोष की वजह से उनकी उपेक्षा ठीक नहीं है। उनको भी एक आम आदमी की तरह जीने का हक है और इस दिशा में चुनाव आयोग का फैसला एक महत्वपूर्ण कदम है। आयोग द्वारा किन्नरों के लिए एक अलग श्रेणी निर्धारित किए जाने के कुछ दिन बाद ही डा. हुदा का आभार व्यक्त करने के लिए आल इंडिया किन्नर एसोसिएशन की अध्यक्ष सोनिया गुजरात से बरेली आयी और उसने किन्नरों की समाज में स्वीकार्यता के लिए शुरू की गई मुहिम की दिल से तारीफ की थी। डा. हुदा अब सदियों से उपेक्षित किन्नर वर्ग के पुनर्वास के लिए काम करना चाहते हैं ताकि प्रशिक्षित होकर वे गाने-बजाने के अलावा अन्य काम धंधे भी कर सकें
report-uni
by-himanshu joshi

IBN7 is telecasting “FIGHT FOR KINNARS”by Dr. Huda

2:58 AM / Posted by huda / comments (0)


. IBN7 is telecasting “FIGHT FOR KINNARS”by Dr. Huda, on Sunday 11th of April 2010 at 5.30pm, Monday 12th April 2010 at 4.30pm, & Tuesday 13th April 2010 at 2.30 pm. In CITIZEN JOURNALIST programme.

विचित्र या अदभुत

9:34 AM / Posted by huda / comments (3)


बेमौसम की बरसात, बारह महीने मटर का मिलना। जब चाहो सो जाओ, सुबह चाय, ज़िन्दगी कभी सुस्त ज़रूरत से ज्यादा और कभी बहुत तेज़। बारिश की बूँद का छत के आँगन पर पड़े प्लास्टिक के तिरपाल पर टक-टककर गिरना और तेज़ बारिश तो और तेज़ टप-टप की आवाज़। हमें आवाज़ टप-टप की ही क्यों सुनाई देती है। चट-चट भी तो हो सकती थी।
गर्मी में आम का इन्तिज़ार, तरबूज़ भी होंगे। हो सकता है अगले बरस सर्दी में मिलने लगें सब। कोशिश करो राइगा नहीं जाती। मोबाइल पर मैसेज कभी बहुत अच्छे तो कभी अश्लील। सन्ता-बन्ता भी तो हैं। गाड़ी में तेल की सुई ऊपर-नीचे रोज़ थोड़ी। घबराकर पर्स पर नज़र, हर रोज़ कुछ नया करना है। चलो कुछ पढ़ लिया जाए। क्या-क्या पढ़ें। घूम-फिरकर सब किताबों में वही तो लिखा है। हाँ, कवर ज़रूर बदल गये हैं चटकीले रँगों वाले। आज बातनहीं करेंगे किसी से। सिर्फ खामोश रहेंगे। लोग रहने दे तब तो। उर्दू अदब का भीजवाब नहीं। ऐसा मेरे सारे हिन्दु दोस्त कहते हैं। और मुसलिम दोस्त कहते हैं उर्दू पढ़ने से नौकरी थोड़े ही मिलेगी। बेचारी उर्दू। ग़ालिब साहब को क्या सूझी। जो उर्दू और फारसी में दे मारा। अंग्रेज़ी में लिखते तो शायद छः सात नॉबेल मिल जाते। कुछ मरने से पहले तो कुछ मरने के बाद। एक मेल करना था ज़रूरी, अंग्रेज़ी में जवाब देना था। वह भी महिला को। वैसे आज-कल महिलाओं की अंग्रेज़ी बहुत अच्छी हुई है। डायरी पर डायरी रखी हैं नये साल की। मार्च बीत गया अप्रैल शुरू हो गया है। अभी तक एडजस्ट नहीं कर पाया हूँ कहाँ रखूँ। इस साल भी पिछले साल की डायरियों पर लिख रहा हूँ कुछ काम की बातें। पता नहीं लोग क्यों डायरियाँ बाँटते हैं। जिसको लिखना है, नये साल की डायरी ख़ुद ख़रीदे। दवा कम्पनियाँ तो लगता है पूरे वर्ष दवा से ज्यादा डायरियाँ बनाती हैं। थोक के हिसाब से बाँटती हैं। हर पेज़ पर एक गोली का नाम। चल रहा है सब। बस......चले चलो। कुछ घुटन-सी महसूस हो रही थी। सोचा सो जाऊँ, सोना बड़ा सुकून देता है। जो चाहो सोचो, कोई पहरेदारी नहीं। जिसकी चाहो उसकी बाट लगाओ सोते वक्त। जिस गाड़ी में चाहो.....बैठो। तमन्ना से लेकर जसला वाले बंगले में रहो। नेपाली गार्ड चार से दस रखो। सोते-सोते सांसद बनो, लेखक बनो, प्रधानमंत्री बनो। जो चाहो बनो। कभी-कभी गुलज़ार, रहमान और जावेद अख्तर भी बन जाओ। ओबामा भी बन सकते हो। मिशेल भी साथ होगी। नयी ड्रेस के साथ। पता क्यों नहीं गाँधी के सपने नहीं आते आजकल। तारों की सैर करो। बड़ी-बड़ी लम्बी-लम्बी बातें करना अच्छा लगता है। बड़े साहित्यकार की तरह। ओशो की भी कुछ किताबें ख़रीद लो। जूता-चप्पल सब पर बात करो। प्रचार करो जूते का। क्योंकि कम्पनी ने कुछ ग़ैर-इस्लामी लिखा है जूते पर। क़ीमत है चार हज़ार। ख़ूब मैसेज करो दोस्तों को चार हज़ार का जूता न पहनने की भड़ास निकालो। सब कुछ विचित्र-सा है न, पर अदभुत लगता है।

FAX-Hon’ble Prime Minister Of India

11:00 AM / Posted by huda / comments (0)


: SUB:- Separate Gender Identification and specific UID – For Eunuchs.
This in reference to our earlier letter ref: ssfaesfi/3/10 dated 1/4/2010, regarding above.
We are sending this fax in the interest and to request you to kindly consider the said matter on priority basis.
We also request your good self to kindly inform us the developments in this matter, if possible
Waiting for early and positive response

Thanking you,

Yours truly,

(Dr. S.E. Huda)
Secretary

The Truth of Bareilly Riots

10:42 AM / Posted by huda / comments (1)


There is little news out of the dark pit called Bareilly, whatever little is coming out is tainted and distorted either by agents of mischief or out of human error . After going on the net I thought of putting little time in resconstructing the events as they have unfolded over past 12 days . The readers are advised to kindly spare some moments to read this important chronology and if possible transmit this to the friends so that amidst a sea of deliberate mis-information an iota of truth is served.
Thanks
Aditya Kohli
reporting from Bareilly on 13th March 2012.
It was a usual 12 wafaat procession going on for many years (mind it Bareilly is great seat of Sunni Muslim school). The city has unparalleled history of communal harmony and pluralistic life style. No one among my parents and uncles remembers anything ever going wrong between hindus and muslims for past as many decades as can possibly be remembered by living generations. Then what went wrong???!!!
This procession was scheduled on the very day of Holi but in line with the communal tolearance and brotherhood the Muslims had agreed to postpone their procession for the next day, as they have been doing for past many years On that fateful day of 2nd March 2010 A small group of Muslim boys ( whose collective number was not more than 30) was coming to join in the main body of the procession about a kilometer far off at Koharapeer ( It was not the procession itself which characteristically has some 30-50 thousand individuals as it is made to appear!). As all Bareilly residents know a large number of processionists are kids wearing traditional islamic attires . When they were passing through a mohalla The Locals of majority community objected and intimidated the boys It was hardly few minutes that a volley of brickbats started falling on these boys ( who kept the brickbats in such huge quantity on roof tops? were things already planned before the flash point?) and many of these processionist boys got injured and started to bleed .They somehow made it to the main procession where after seeing their blood the mob reacted the way it probably should have been. The leaders of procession called for police help which did not come in time. They are on official record of giving 30 minutes to the administration to control the miscreants and brickbatters But the police won’t come . It was the next day of holi and possibly the police force was celebrating the holi as they usually do on next day. Mob has it’s own dynamics and soon the retaliation started resulting in burning of shops which was indiscriminate unlike the popular belief there were many muslim shops which were completely burned down . This is how the riot started.
Bareilly has unusual strength resulting from centuries of co -existence and inspite of utter failure of the administration the city somehow was about to regain it’s lost pace and when every body thought that by tomorrow curfew shall finally be a history that the administration arrests Sunni muslim cleric Maulana Tauqeer raza Khan , the National president of powerful IMC or Ittehad e Millat, The political party with widespread acceptance among the moniority section of western U.P. that was in the evening of 8th March. It was a very quick arrest made by the D.M. Ashish goel and the D.I.G. on pre-text of talk over a cup of tea in Kotwali and within two hours he was booked under scores of IPC clauses. Now Maulana is no baby sheep . It is beyond any sane mind’s comprehension that why administration took the matter so casually? either they should have arrested him on the very day of rioting if they were sure of his involvement ( an allegation which Maulana catagorically denies)or logically should have done their home work thoroughly and later when city had normalized they could have pursued the matter .But the administration’s hasty act remains an unsolved mystery till date .it was as if the authorities themselves wanted to aggaravate the precariously balanced situation .
In the evening hours of the 11th March Maulana Tauqeer was released from jail on intervention of Lucknow ministerial top brass by using a novel tool named CPRC 169. The supporters of Maulana and his ancestoral Barelvi chair were on dharna sitting calmly in Islamiya school and azad Inter college demanding Maulana’s unconditional release. Their number was around 30 thousand yet they displayed remarkable dicipline and not one of them is reported to have done any thing negative except peacefully sitting on dharna for over 30 hours. Their number was increasing with each passing moment and the news of abrupt arrest of a family member of the world famous Aala Hazrat family . The unrest was spreading like a jungle fire and one by one Muslims in many different cities in India and also outside India were registering their protest ( which remained entirely peaceful everyehere)
Immediately following the release of their leader Muslim crowd started dispersing off peacefully trying to make it to their respctive homes after securing their leader’s release from prison. This was the moment Bajrang Dal and BJP were waiting for . Few paid goons attacked the returning muslims individuals two of them sustained severe cut by sword at Kaali Baari, The arson had started simultaneously in many parts of Bareilly as if being orchesterated by intelligent beings. The new Team of the administration had just arrived and had not even got oriented with things and fighting these goons was a tough job.
on previous night as well before leaving the outgoing D.M. and D.I.G had misplayed their shots ( stupidly or deliberately?) where the senior police officers were seen intimating ( rather intimidating)the peaceful posh Hindu colonies . The officer would come with assumed helplesness and overt symapthy and would inform the confused residents that the police is no more able to defend you all therefore make your own arrangements. This was the worst gimmick played by the administration and it seriously puts a big question mark before their actual intentions. The result was predictable on that night of 10-11 march 2010 no one slept in Bareilly, everyone was scared by faceless terror. The entire Bareilly was engulfed by mass hysteria where each colony thought the rioters are coming any moment. In Rajendra Nagar area some hundreds of the slogan shouting and arms waving ( yes arms amidst Curfew !)men most of whom were well known right wing activists belonging to VHP, Bajrang dal and BJP etc .were seen whose photo was published in 11th March Jagran newspaper.
on 11th and 12th The bajrang dal and similar outfits were busy in vandalizing , looting and burning muslim owned shops and property and police and paramilitary forces are having tough time curtailing their meance till the writing of these lines.
They seem desperate and are ready to use medium of terror and rioting to instill insecurity, fear and mistrust in the heart of the residents of Bareilly
The question arises who shall be benefitted by all this ?
The answer does not require any extra intelligence than normally we ordinary humans are gifted with..
These are the means by which BJP , BAJRANG DAL and similar outfits are trying to regain their badly lost territory.
The polarization of votes will help Right wing to garner more seats in upcoming Vidhansabha and later loksabha elections. This polarization has been a tested method by which Advani ji had gained power following Babri Mosque destruction. In recent times Varun Gandhi has won the last M.P election by delivering hate speeches against the minority community of pilibhit , Otherwise he was surely a badly defeated candidate.
On the evening of the release of Maulana the Muslim boys were attacked in vicinity of sitting BJP MLA Mr. Rajesh agarwal who is reported to have played important role in retalliation game consequently most burnt shops are in Kaali Baari locality where Rajesh Ji resides
All over there are signs that the poltical tiger is on prawl and is targetting the innocent, peaceful socities like that of Bareilly where the only way people have known is co-existence, where the monuments like chunna Miyan ka mandir , alakhnath temple and khankah e Niyazia stand tall as a testimony to centuries of love and brotherhood among the hindus and the muslims.
It is not surprising that BJP has declared three member committee to probe the Bareilly riots it is headed by none other than Maneka Gandhi ji and has controversial M.P from Gorakhpur as her team member, I wonder why services of Togadia ji and Vinay Katiyar are not taken?..or maybe like a good players Aces are kept reserved for the last round of poker.
There is no end to being bias and hunt for conspiracy theories but let us not dismiss the facts which are so obvious.
I have tried to maintain full honesty in reporting the incidences as they are and my tolearant/ secular/ pluralistic up bringing lets me put these facts before the world to see them as they are ! not as they are made to appear by various netizens .
:SATYAMEV JAYATE:

न्याज़ वर्सस प्रशाद

8:35 AM / Posted by huda / comments (8)


इसी वृहस्पतिवार ही की बात है। सुबह यही कोई ग्यारह बजे होंगे। बहुत ध्यान से और संभल-संभलकर मरीज़ देख रहा था। कि इतने में मेरे एक मरीज़ जो काफी लम्बे अरसे से मुझसे इलाज कराते-कराते मेरे अच्छे दोस्त भी हो गये हैं। उनका ओपीडी में प्रवेश हुआ। हाल-चाल पूछने के बाद मैं पास बैठे मरीज़ से कुछ सवाल पूँछता कि मेरे दोस्त अशरफ खाँ साहब ने मेरी ओर मुख़ातिब होकर कहा डॉक्टर साहब आज जल्दी में हूँ....बस दो मिनट लूँगा। मैंने कहा जी ज़रूर। अशरफ भाई..... बताइये क्या बात है। इतना कहकर अशरफ भाई ने एक पैकेट मेरी ओर बड़ी अक़ीदत से दोनों हाथ से पेश करते हुए कहा.. कि पिछली जुमेरात को मैं ख्वाजा ग़रीब नवाज़ की दरगाह पर हाज़िरी के लिये गया था। यह वहाँ का तवर्रूक है। मैंने बड़े ऐहतिराम के साथ तवर्रूक हाथ में लिया और मेज़ पररख लिया। अशरफ भाई काफी जल्दी में लग रहे थे। फौरन उठे और इजाज़त लेते हुए विदा हो गये। मैं फिर मरीज़ देखने में मशग़ूल हो चुका था। चूँकि दिन गुरूवार का था। शहर के बाज़ार की छुट्टी का दिन था। इसलिये मरीज़ों में ज्यादा तादाद शहर के व्यापारियों की थी। मैं ध्यान लगाकर मरीज़ों को देखे जा रहा था कि यही कोई बीस मिनट के बाद मेरे एक व्यापारी मित्र सुमित अग्रवाल जी का मेरे चैम्बर में आना हुआ। बड़ी गर्मजोशी के साथ हाथ मिलाया और मैंने उनसे तशरीफ रखने के लिये कहा। मैं पास की कुर्सी पर बैठे मरीज़ की ओर मुख़ातिब हो ही रहा था कि सुमित जी बीच में ही बोल पड़े। डॉक्टर साहब थोड़ी जल्दी में हूँ क्योंकि आज दुकान की भी छुट्टी है....कई काम निपटाने हैं। पिछले वृहस्पति को शिरडी गया था। साईं बाबा के दर्शन को। आप के लिये प्रशाद लेकर आया हूँ। और बड़े ख़ुलूस के साथ उन्होंने एक प्लास्टिक का पैकेट मेरी ओर बढ़ा दिया। और मैंने खड़े होकर उस पैकेट को स्वीकार किया। सुमित जी को ससम्मान विदा किया और मरीज़ देखने में मसरूफ हो गया। मरीज़ों के आने-जाने का सिलसिला चलता रहा और वक्त दोपहर से शाम की तरफ धीरे-धीरे बढ़ने लगा। शाम के पाँच बज चुके थे। लगभग काफी काम निपटा चुका था। और अब मैं थोड़ा थक भी रहा था। मैंने अपने असिस्टेंट संजीव को चाय के लिये आवाज़ दी। और मेज़ पर दोनों हाथ टिकाकर बैठ गया। अचानक मेरी नज़र सामने रखे दोनों पैकेट्स पर पड़ी। जो मेरे अज़ीज़ दोस्तों ने मुझे बड़ी मोहब्बत से मुझे पेश किये थे। मगर यह बात सुबह ग्यारह-बारह बजे के बीच की थी और अब शाम के पाँच बज चले थे। इतने लम्बे अरसे में व्यस्तता की वजह से मैं समझ नहीं पा रहा था कि कौन-सा पैकेट अशरफ भाई का है और कौन-सा सुमित जी का। क्योंकि इत्तिफाक से दोनों पैकेट बराबर के आकार के थे और उसमें रखी बर्फी, इलायची दाने, गुलाब के फूल की पत्तियाँ, रेवड़ी भी एक जैसी दिख रही थीं। अब मेरे लिये बड़ी मुश्किल घड़ी आन पड़ी थी। क्योंकि ख्वाजा ग़रीब नवाज़ और साईं बाबा - दोनों के दर्शन का विशेष दिन जुमेरात ही होता है। और प्रशाद और न्याज़ भी एक जैसी। मेरे लिये बड़ा विचित्र एवं पहला अनुभव था। समझ नहीं पा रहा था कि क्या करूँ। इतने में संजीव चाय लेकर आ गया। मैंने चाय के प्याले को बड़ी मज़बूती से पकड़ लिया। और बहुत दिमाग़ लगाने की कोशिश की कि कौन-सा प्रशाद किसका है। हर एंगिल से सोचा कि अशरफ भाई से लेकर कहाँ रखा था.....और सुमित जी से लेकर किधर रखा था। कौन-सा पैकेट किसका है। सुमित किधर बैठे थे। अशरफ ने किधर से दिया था। मगर सब कोशिशें बेकार। धीरे-धीरे मेरा डर बढ़ने लगा कि अब क्या होगा। साईं नाथ और ख्वाजा बाबा - दोनों एक साथ। बराबर-बराबर एक टेबिल पर। कुछ अजीब-सा घटने की घबराहट से मेरी बेचैनी बढ़ती जा रही थी। हाथ भी पसीने से कुछ गीले हो चले थे। मैंने सोचा कि अगर ख्वाजा बाबा का तवर्रूक साईं जी को याद करके चख लिया और साईं नाथ का प्रशाद ख्वाजा बाबा को याद करके चख लिया तो क्या होगा। मेरी साँसे ज़ोर-ज़ोर से चलने लगीं और अपने आपको कोसने लगा। काश.......दोनों को अलग-अलग रख दिया होता। काश......दोनों पैकेट पर दोस्तों के नाम की स्लिप होती...वगैरह....वगैरह। मैंने ख़ुदा को याद किया और दुआ माँगी कि इस मुश्किल घड़ी में मेरी मदद कर। अचानक मेरे मन में विचार कौंधा और मैंने दोंनो पैकेट्स का मुँह खोलकर एक-दूसरे के सामने रख दिया और सोचने लगा कि शायद अब कोई करिश्मा होगा। ध्यान लगाकर देखने लगा। दो-तीन मिनट बाद मेरी निराशा बढ़ने लगी। कोई समाधान नज़र नहीं आ रहा था। न्याज़ और प्रशाद का कोई द्वन्द मुझे नहीं दिख रहा था। दोंनो पैकेट्स ख़ामोश मेज़ पर रखे थे। और न ही अपने को सर्वोच्च दिखाने की क़वायद पैकेट्स में नज़र आ रही थी। छः बज चुके थे। शाम की ओपीडी का समय समाप्त। पर मैं बड़ा बेचैन, और दिमाग़ी परेशानी में उलझ चुका था। इसी बीच मेरे इंटरकॉम टेलीफोन की घन्टी घनघनाई। घन्टी ने मेरी बेचैनी को तोड़ा। फोन उठाने पर पता चला कि जनरल वार्ड में बेड नम्बर ग्यारह पर मुझे एक मरीज़ ने बहुत ज़रूरी याद किया है। मैं दौड़ता हुआ जनरल वार्ड पहुँचा। पर मेरा दिमाग़ मेरे चैम्बर में रखे न्याज़ और प्रशाद के द्वन्द पर था। जो मेरी बेचैनी बढ़ाए जा रहा था। मरीज़ को कुछ ज्यादा परेशानी थी। लगभग दस मिनट का समय उसके पास लग गया। पर मेरा ज़ेहन तो कहीं और ही था। सिस्टर को ज़रूरी निर्देश दिये और तक़रीबन दस मिनट के बाद बड़ी बेचैनी से लगभग दौड़ता हुआ अपने चैम्बर की ओर आया। अन्य ख्याल दिमाग़ में सवाल कर रहे थे। जैसे ही मेज़ पर नज़र पड़ी..... अवाक रह गया..... मुँह और आँखें खुली रह गयीं। मैंने देखा मेज़ पर रखे दोनों पैकेट्स में से चीटियों का एक बड़ा समूह एक-दूसरे पैकेट में निःसंकोच आ जा रहा है। सहसा विश्वास ही नहीं हुआ। अपने चेहरे को पैकेट्स के करीब लाकर और क़रीब से देखा। अचानक ऐसा अहसास हुआ कि एक पैकेट्स से दूसरे पैकेट्स में आने-जाने वाली चीटियाँ मेरा मुँह चिड़ा रही हैं। उन चीटियों के मुँह चिढ़ाने से मुझे शर्म महसूस हो रही थी। परन्तु अब मेरा दिमाग़ी कौतूहल शान्त था और चेहरे पर मुस्कुराहट भी।

A letter to the president of india-----

1:43 AM / Posted by huda / comments (0)


SUB:- Separate Gender Identification and specific UID – For Eunuchs.
madam,
We are running an organization in the name ‘Syed Shah Farzand Ali Educational & Social Foundation of India’, comprising of large community of intellectuals, doctors, national & international social activists, academicians and sport person. The organization chooses such people who are motivational, conscientious, and intellectuals with deep sense of commitment. Our approach is long term and leveraged. The organization works on social and educational issues of the society irrespective of cast and religion. We are working for the last may years in Maharashtra, MadhyaPradesh, Gujrat, Uttar Pradesh and Delhi and near by areas mainly concentrating on the welfare of women, children and eunuchs, from the deprived group and down trodden group of the society, in respect of their education socio-economic and health status.
Since we are deeply associated with the eunuchs for many years in different states, we have observed that for the upliftment of eunuchs, a lot has to be done. According to the survey of non-government organization in the year 1995 there were approximately 70 laks of eunuchs in India, which must have increased to 1 crore by now. Which makes them a very important part of the country.
Now time has come that they should be taken on priority level. We have passed from very difficult phase and after vigorous efforts and determined attempt, we were able to persuade Chief Election Commissioner, (letters for all correspondence is enclosed) and we achieved success in terms historical decision given by the election commission, that eunuchs will be given separate category, during voting time.
We feel presently Govt. has no authentic figure of eunuchs in India. Without having the actual figure it is very difficult, if not impossible to do the genuine work for the welfare of the eunuchs. So now it becomes the utmost responsibility to have the correct figure of eunuchs in India. It is suggested eunuchs should also be counted separately, during census 2011 and should be considered in the separate category like separate category given in voters id.
Without raising eunuchs socially and economically, comparable to the rest of the community, a dream of changing India from the developing country to developed country will be very difficult. This group is deprived of all the developments and benefits of the country from the very beginning, their condition is very pathetic and till date no individual govt. has taken pains to even think about them, as if they do not exists.
Now since Govt. has taken step of making UID (Unique Identifier) Cards, we wish that if possible specific UID card could be made available for eunuchs so that they can be easily identified and the Govt could come to know the exact number of eunuchs and also whenever any program from government is organized for them, it will easily reach to these eunuchs and they can make proper use of the same. Eunuchs comprises a large group of the society and it is our responsibility to bring them into the main stream to make a better society, a better nation and above all a better human being.
According to the Govt website (www.censusindia.gov.in) it is mentioned that Govt will advertise through print and electronic media, motivational programs for the public to co-operate the enumerators visiting individuals house in the same way it is requested to run motivational programs separately for eunuch community also.
As we have mentioned above, we have deep presence amongst eunuchs and in many states we are working for the welfare of eunuchs, we have lot of information regarding their status and strength. We wish earnestly to discuss on this matter personally, as and when your good Self could spare some time, at your convenience.
In the end we would like to request your good self to give a serious thought and take
necessary step on this.
An early and positive response will highly be appreciated.
Thanking you,

Yours truly,

(Dr. S. E. Huda)